TOP 5 VARANASI MORNING NEWS 12 SEPTEMBER 2020

TOP 5 VARANASI MORNING NEWS 12 SEPTEMBER 2020

Top 5 Varanasi Morning News : आईये जानते है Varanasi से जुड़ी हुई आज 12 September 2020 के दिनभर की टॉप 5 खबरें जिसमे Varanasi में Career, Education, Political, कोरोना वायरस के कहर और रोकथाम से संबंधित न्यूज़ को आप जानेंगे । आपके अपने Varanasi शहर के तमाम जरूरी खबरों को टॉप 5 वाराणसी न्यूज़ में जानेंगे तो चलिए जानना शुरू करते है ।

top-5-varanasi-morning-news-12-september-2020

1- विकास प्राधिकरण की टीम ने वाराणसी बिल्डर एवं डेवलपर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष के अवैध निर्माण पर कार्रवाई की

अवैध निर्माणों के खिलाफ जारी अभियान में शुक्रवार को विकास प्राधिकरण की टीम ने वाराणसी बिल्डर एवं डेवलपर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष के अवैध निर्माण पर कार्रवाई की । एसोसिएशन के अध्यक्ष अनुज डिडवानिया के ग्रुप हाउसिंग भवन को सील कर दिया ।

नगवां के पटिया में बेसमेंट और भूतल सहित सात तल का भवन मानचित्र से अलग बनाया जा रहा था । उधर, रोहनिया के केशरीपुर में बसपा नेता अमीर चंद पटेल के आठ बिगहा अवैध प्लाटिंग को जेसीबी से तोड़ दिया गया ।

दरअसल, शहर में बन रही हाउसिंग सोसाइटी मानचित्र से अलग निर्माण कर उपभोक्ताओं से धोखा करने में जुटी रहती है । यही कारण है कि विकास प्राधिकरण ने अब ग्रुप हाउसिंग भवनों की निगरानी तेज कर दी है ।

वाराणसी बिल्डर एवं डेवलपर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अनुज डिडवानिया और बसपा नेता के खिलाफ कार्रवाई से वीडीए ने अपने इरादे जाहिर किए हैं । दशाश्वमेध वार्ड के जोनल अधिकारी वीपी मिश्रा और जेई चंद्रभानू दीक्षित ने अमीरचंद के प्लाटिंग पर जेसीबी चलाई ।

उधर, रामनगर के डहिया स्थित विंध्यवासिनी नगर कॉलोनी में जेई आनंद कुमार अस्थाना ने 12 बिगहा प्लाटिंग को तोड़ दिया ।

गंगा किनारे भी अभियान

गंगा नदी से 200 मीटर के अंदर विभिन्न शासनादेशों एवं न्यायालीय आदेशों के अधीन निर्माण करने वालों पर कार्रवाई हुई। नगवां वार्ड में विशेष ध्वस्तीकरण अभियान के तहत पांच निर्माणों को ध्वस्त किया गया ।

गंगोत्री विहार में आरडी सिंह, अजीत कुमार झा, महेश नगर में मोहन शुक्ला, मदन गोपाल गुप्ता के राम छटपार शिल्प न्यास, देवेंद्र प्रताप सिंह के निर्माणाधीन भवन को जोनल अधिकारी परमानंद यादव के नेतृत्व में जेई रामचंद्र, पीएन दूबे, आरके सिंह ने तोड़ दिया ।

2- अदालत में दुर्व्यवहार करने और जान से मारने की धमकी देने पर रोहनिया इंस्पेक्टर परशुराम त्रिपाठी समेत पांच के खिलाफ मुकदमा दर्ज

मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत ने दुर्व्यवहार करने, जान से मारने की धमकी देने और फर्जी मुकदमे में फंसाने के मामले में रोहनिया इंस्पेक्टर परशुराम त्रिपाठी समेत पांच के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर विवेचना करने का आदेश दिया है ।

साथ ही अदालत ने इस मामले की विवेचना सीओ स्तर के अधिकारी से कराने का आदेश दिया है । गौरा, रोहनिया निवासी नलिनी उपाध्याय ने कोर्ट में आवेदन दिया था । प्रार्थना पत्र में कहा था कि उनका बड़े पिता जयकृष्ण के साथ जमीन का विवाद चल रहा था ।

बड़े पिता ने रोहनिया थाने की पुलिस को अपने प्रभाव में लिया । इसके बाद आए दिन पुलिस उन्हें रोहनिया थाने पर बुलाकर अपमानित करती थी । पिछले साल 21 फरवरी को एक सिपाही ने उन्हें अपने साथ ले जाकर मारपीट कर पैसा छीन लिया था ।

उस समय सौ नंबर पर शिकायत की गई थी । शिकायत से नाराज होकर अगले दिन कई पुलिस वाले घर पर आकर तोड़फोड़ किए थे । यही नहीं, विपक्षी के प्रभाव में आकर गालीगलौज के मामले में वारंट दिखाकर पुलिस उन्हें चौकी पर ले जाकर बेहरमी से पीटी थी ।

धमकी दी गई थी ज्यादा शिकायत करोगे तो फर्जी मुकदमे में फंसा कर जीवन बरबाद कर देंगे । अदालत ने प्रार्थना पत्र पर सुनवाई करते हुए मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया ।

रोहनिया इंस्पेक्टर के अलावा तीन अन्य पुलिसकर्मियों में मातलदेई के तत्कालीन चौकी इंचार्ज जनक सिंह, एसआई अभिषेक कुमार राव और सिपाही दीपक यादव शामिल हैं ।

3- कांग्रेस के पूर्व सांसद डॉ. राजेश मिश्रा को पार्टी ने केंद्रीय चुनाव समिति का सदस्य बनाया, विधानसभा चुनाव के पूर्व तैयारियां तेज

कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव के पूर्व तैयारियां तेज कर दी हैं । कांग्रेस के पूर्व सांसद डॉ. राजेश मिश्रा को पार्टी ने केंद्रीय चुनाव समिति का सदस्य बनाया है । शुक्रवार को संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल की ओर से समिति की सूची जारी की गई ।

इसके पूर्व कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश के लिए घोषणापत्र समिति समेत कुल सात समितियों का गठन किया था । इसमें पूर्वांचल से भी तीन बड़े चेहरे पूर्व सांसद डॉ. राजेश मिश्रा, पूर्व विधायक अजय राय और पूर्व विधायक ललितेश पति त्रिपाठी को जगह दी गई थी ।

इसमें पूर्व सांसद डॉ. राजेश मिश्रा का पंचायती राज समिति का सदस्य बनाया गया था । पूर्व सांसद सड़क हादसे में घायल होने के बाद अभी स्वास्थ्य लाभ कर रहे हैं ।

पूर्व सांसद डॉ. राजेश मिश्रा ने कहा कि पार्टी ने उनके ऊपर जो विश्वास जताया है, उस पर खरा उतरने का प्रयास किया जाएगा । कांग्रेस एक बार फिर से प्रदेश में जन-जन के मन तक पहुंचेगी । पार्टी नए उत्साह के साथ आगे बढ़ रही है ।

4- शहर में बंदरों का आतंक एक बार फिर बढ़ा, हर महीने 20 से 25 बंदरों के काटने के मामले

बंदरों ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है । बंदरों की आदत में शुमार नोंचने, बकोटने, काटने, खाने से जनता त्रस्त है । शहर में बंदरों का आतंक एक बार फिर से बढ़ने लगा है । आवारा पशुओं के साथ बंदरों का आतंक बड़ी समस्या बन गयी है ।

अब लोग नगर निगम के अफसरों से मदद की गुहार लगा रहे है । हालांकि शहर को बंदरों के आतंक से मुक्ति दिलाने के लिए नगर निगम ने जिम्मा उठाया है। लेकिन अब तक कोई खास सफलता नहीं मिल पाई है ।

नगर निगम ने मथुरा से बंदरों को पकड़ने वाले सिकंदर को बुलाया है । इधर कुछ दिनों से बंदरों ने पूरे शहर में आंतक फैला दिया है । दुकान, मकान, मंदिर, पार्क के साथ करीब-करीब हर जगह बंदरों ने डेरा डाल रखा है ।

मौके का फायदे उठाते हुए ये बंदर घरों में घुस जाते हैं । जिसके बाद सामान आदि नष्ट कर दे रहे हैं । वहीं कार्यालयों का कागजात आदि बर्बाद कर देते हैं । मौका मिलते ही बंदर अपने नुकीले दांत से लोगों पर झपट्टा मार देते हैं ।

ये सब सिर्फ दिन में नहीं रात में भी हो रहा है । अमूमन बंदरों का आतंक गर्मी में ज्यादा बढ़ता है, लेकिन कोरोना के चलते बंदरों को खाने-पीने की समस्या हो रही है । कंक्रीट के जंगल में तब्दील शहर में हरियाली नाम मात्र की है ।

इसलिए बंदरों ने इंसानी बस्तियों को अपना ठिकाना बना लिया है । शहर की पॉश कॉलोनियों से लेकर पुराने मोहल्ले तक में इनके झुंड रहते हैं ।

मथुरा के सिकंदर ने पकड़े थे 300 रूपए प्रति बंदर

बंदरों की सही संख्या का पता किसी को नहीं हैं। लेकिन लगभग डेढ़ लाख से ज्यादा बंदर शहर के अलग-अलग इलाकों में डेरा जमाए हैं । बंदरों को शहर से दूर करने के लिए नगर निगम ने मथुरा के सिकंदर को जिम्मेदारी दी थी ।

बंदरों को पकड़कर मिर्जापुर और नौगढ़ के जंगलों में छोड़ देते थे । कुछ दिनों तक तो 300 रूपए में प्रति बंदर के हिसाब से पकड़ने का काम किया था । रुपयों के लेन-देन में उसने अपना बोरिया बिस्तर समेट लिया ।

जिसकी वजह से इधर बीच बंदरों की संख्या लगातार बढ़ रही है । बंदरों के आतंक की वजह से अस्पतालों में बंदरों के काटने के मामले भी लगातार बढ़ रहे हैं ।

पिछले एक महीने से मंडलीय व दीनदयाल अस्पताल में 20 से 25 बंदरों के शिकार लोग पहुंच रहे हैं । वहीं प्राइवेट हॉस्पिटल में यह संख्या 40 से ऊपर है ।

अपने ही घर में नजरबंद

बंदरों के आतंक से लोगों को अपने ही घर में नजरबंद रहना पड़ रहा है । बंदरों के डर से बच्चे बाहर खेलने की बजाय घरों में कैद रहने को मजबूर हैं । बंदर इतने स्मार्ट हो चुके हैं कि दरवाजों के लॉक को भी खोल लेते हैं और घर में घुसकर धमाचौकड़ी करते हैं ।

किचन में घुसकर खाने का सामान तक उठा ले जाते हैं । यहां तक की फ्रिज भी खोलने की कला इन्हें मालूम है ।

इन क्षेत्रों में है बंदरों का आतंक

शहर के लोहटिया, बड़ा गणेश, हरतीरथ, मैदागिन, चेतगंज, नदेसर, दुर्गाकुंड, लंका, साकेत नगर, सुंदरपुर, सोनारपुरा, दशाश्वमेध, सिगरा, महमूरगंज, कैंट, औरंगाबाद, लक्ष्मी कुंड समेत शहर के विभिन्न इलाकों में बंदरों का आतंक ज्यादा है ।

कोरोना के चलते पशु बंदी अभियान प्रभावित हुआ है । लॉकडाउन में मिली छूट के बाद पशु बंदी अभियान चलाया जा रहा है ।

बंदरों को पकड़ने के लिए मथुरा के सिकंदर से संपर्क किया गया है । वह अपनी पूरी टीम के साथ इस महीने में आ जाएंगे ।

5- वंदे भारत एक्सप्रेस सहित आधा दर्जन स्पेशल ट्रेनें शनिवार से ट्रैक पर दौड़ी, रेल अधिकारियों ने तैयारियों का जायजा लिया

वाराणसी में वंदे भारत एक्सप्रेस सहित आधा दर्जन स्पेशल ट्रेनें शनिवार से ट्रैक पर दौड़ने लगेंगी । कुल 173 दिनों के बाद यह ट्रेनें रफ्तार पकड़ेंगी । कैंट रेलवे स्टेशन सहित अन्य स्टेशनों पर शुक्रवार को रेल अधिकारियों ने तैयारियों का जायजा लिया ।

प्लेटफार्म पर स्टाल, कुली सहित अन्य सुविधाओं के बाबत जानकारी ली । कैंट रेलवे स्टेशन से शाम चार बजे वंदे भारत एक्सप्रेस नई दिल्ली के लिए रवाना होगी ।

मंडुवाडीह स्टेशन से शाम को पौने 6 बजे ग्वालियर के लिए बुंदेलखंड एक्सप्रेस रवाना होगी और वाराणसी सिटी से लखनऊ के लिए शाम पांच बजे कृषक एक्सप्रेस खुलेगी । इसके अलावा चार अन्य स्पेशल ट्रेनें वाराणसी से होकर गुजरेंगी ।

इनमें स्वतंत्रता सेनानी स्पेशल, चौरीचौरा स्पेशल, गंगा सतलज किसान एक्सप्रेस और अमृतसर-डिब्रूगढ़ स्पेशल ट्रेन शामिल हैं ।

हालांकि इन ट्रेनों में दूसरे दिन भी यात्री टिकट के लिए जूझते रहे । बुंदेलखंड और वंदे भारत में तो किसी तरह टिकट मिल भी गया लेकिन चौरीचौरा, गंगा कावेरी, अमृतसर-डिब्रूगढ़ एक्सप्रेस में तो टिकट नहीं मिला ।

इन्हें भी पढ़ें :-

  1. Top 5 Varanasi 14 August News (Friday)
  2. Top 5 Varanasi 11 August News 2020
  3. Top 5 Varanasi Morning News 25 August 2020
  4. Top 5 Varanasi Morning News 31 August 2020
  5. Top 5 Varanasi Daily News 09 August 2020 (Sunday)

INSTALL VARANASI NEWS APP FROM GOOGLE PLAY STORE

TOP 5 VARANASI MORNING NEWS 9 SEPTEMBER 2020 1