जुलूसे मुहम्मदी पर प्रतिबंध से पूर्वांचल के व्यापारी नहीं आए

वाराणसी। ईद मिलादुन्नबी पर इस बार जुलूसे मुहम्मदी नहीं निकलने से सामानों की खरीदारी करने पूर्वांचल के खरीदार नहीं पहुंचे। लिहाजा, 50 प्रतिशत बिक्री प्रभावित हुई है। हालांकि सजावट पर प्रतिबंध नहीं होने से सजावटी सामानों की बिक्री पर असर नहीं पड़ा।

जुलूस में शामिल होने के लिए हरे रंग के बड़े झंडे, मदनी झंडे, लालैन शरीफ, टीन और कपड़े के बिल्ले, मोटर साइकिल पर लगने वाले छोटे झंडे और फूल के झंडों की बिक्री होती है। शासन की गाइड लाइन जारी होने पर पूर्वांचल से आने वाले खरीदार नहीं पहुंचे।

दालमंडी में सामानों की थोक दुकान सफी बुक डिपो के प्रोपराइटर असुदल सलाम ने बताया कि सामान तो मंगा लिया गया था, लेकिन जुलूस पर प्रतिबंध की सूचना से पूर्वांचल के व्यापारियों के नहीं आने से बिक्री पर 50 प्रतिशत का असर पड़ा है।

बिहार और एमपी से आए व्यापारियों ने ही खरीदारी की। ऐसे में नुकसान से बचने के लिए सामान का दाम कम करना पड़ा।

72 रुपये दर्जन बिकने वाला कपड़े का बिल्ला 48 रुपये, टीन का बिल्ला 36 की बजाय 24 रुपये दर्जन बिका। जबकि मदनी झंडा 50 रुपये की बजाय 35 रुपये प्रति पीस बेचना पड़ा।

नूर नबी बुक सेलर के प्रोपराइटर रियाज अहमद नूर बताते हैं कि सजावट पर प्रतिबंध नहीं होने से सजावटी सामान मसलन, घरों पर टांगने के लिए इस्लामी छोटे बड़े झंडे, कागज की हरी और लाल झंडियां वगैरह ही बिक रहीं हैं।

इन्हें भी पढ़ें :-

1.तिरंगे झंडे का मास्क बनाकर दुकानों पर बेचना मना, बेचने वालों पर होगी कार्रवाई

2.होली में शराब बिक्री पर बैन मिलिट्री कैंटीन पर भी डीएम ने पाबन्दी लगायी

3.कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए 30 सितंबर तक धार्मिक,राजनीतिक आयोजन, जुलूस और सभा पर प्रतिबंध रहेगा

4.पूर्वांचल में कोरोना से छह की मौत, 283 नए मरीज मिले

5.बुधवार को बनारस में कोरोना के 198 नए मरीज सामने आए और तीन लोगों की मौत

INSTALL VARANASI NEWS APP FROM GOOGLE PLAY STORE

This image has an empty alt attribute; its file name is Download-Varanasi-Daily-News-Android-Apps.jpg.webp