why azam khan becomes problem for samajwadi party and akhilesh yadav – India Hindi News


ऐप पर पढ़ें

जया प्रदा पर विवादित बयान हो या फिर लोकसभा में चेयर संभाल रहीं रमा देवी पर आपत्तिजनक टिप्पणी की बात हो। आजम खान अपने बिगड़े बोलों के चलते बुरी तरह घिरे हैं और उन्हें चौतरफा आलोचना का सामना करना पड़ा है। अपने तीखे बयानों के चलते चर्चा में रहने वाले आजम खान की विधानसभा की सदस्यता भी 2019 के एक भड़काऊ भाषण के चलते ही गई है। इसी के चलते रामपुर विधानसभा सीट पर उपचुनाव हो रहा है। लेकिन आजम खान अब भी अपनी जुबान संभालकर बोलते नहीं दिख रहे हैं। एक बार फिर से उनके एक बयान पर विवाद हुआ है। महिलाओं ने विरोध किया है और केस तक दर्ज करा दिया है। साफ है कि आजम खान भले ही सियासी गर्दिश में हैं, लेकिन उनका अंदाज-ए-बयां बदला नहीं है।

बच्चा पैदा होने से पहले पूछता… बिगड़े बोल पर फिर फंसे आजम, केस दर्ज

आजम खान ने 29 नवंबर को रामपुर के शुतरखाना में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था, ‘आज मेरे साथ या हमारे लोगों के साथ हो रहा है, उसका इंतकाम लेने के लिए जरूर कोई पैदा होगा। भले ही मैं तब रहूं या न रहूं, लेकिन आप तो रहेंगे ही। जैसा सलूक आज मेरे साथ हो रहा है, अगर वैसा मैंने 4 सरकारों में किया होता तो बच्चा मां के पेट से पैदा होने से पहले पूछता बाहर निकलना है या नहीं।’ उनके इस बयान पर काफी विवाद हुआ था और अब वह कानूनी मुश्किलों में भी घिर गए हैं। अब शहनाज नाम की महिला ने आजम खान के खिलाफ गंज थाने में केस दर्ज कराया है।

महिलाएं बोलीं- आजम खान का बयान हमारा अपमान है

शहनाज का कहना है कि आजम खान ने महिलाओं की गरिमा के खिलाफ बयान दिया है। शहनाज ने कहा कि हम सभी लोग उन्हें वोट देते रहे हैं, लेकिन उन्होंने हमारी गरिमा के ही खिलाफ बयान दिया है। शहनाज ने कहा कि उनका यह बयान तो सभी मां-बहनों के खिलाफ हैं। अब उनके खिलाफ 394बी, 354ए, 353ए समेत कई धाराओं में केस दर्ज हुआ है। दरअसल आजम खान की रामपुर में जबरदस्त लोकप्रियता रही है और 1980 के बाद से वह 10 बार विधायक रहे हैं। मुलायम सिंह यादव से लेकर अखिलेश यादव तक की सरकार में वह मंत्री थे। 

रामपुर के नवाब को चुनौती देकर उभरे थे आजम खान

रामपुर के नवाब के मुकाबले मजदूरों के नेता के रूप में उभरे आजम खान का एक लंबा दौर यूपी की सियासत में रहा है, लेकिन देश भर में उनकी पहचान तीखे बयानों से ज्यादा रही है। यही वजह है कि वह तरफ समाजवादी पार्टी के लिए एसेट की तरह रहे तो कभी उनके बयान मुसीबत भी बन गए। आजम खान रामपुर में इन दिनों बेहद भावुक अंदाज में दिख रहे हैं। कभी वह खुदकुशी तक की बात करते हैं तो कभी खुद को गोलियां मारने तक के लिए जनता से कहते हैं। 



Credit : https://livehindustan.com

Related Articles

Latest Articles

Top News