Rahul Gandhi First Job Monitor Group Salary Reveals Congress Bharat Jodo Yatra Interview – India Hindi News


ऐप पर पढ़ें

Rahul Gandhi Job: कांग्रेस सांसद राहुल गांधी की कन्याकुमारी से कश्मीर तक की भारत जोड़ो यात्रा खत्म होने वाली है। दक्षिण से शुरू हुई यात्रा केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र, राजस्थान समेत कई राज्यों से गुजरी, जिस दौरान राहुल का वहां के लोगों, समस्याओं, संस्कृति से सामना हुआ। इस पदयात्रा के दौरान राहुल के निजी जिंदगी से जुड़े भी कई किस्से सामने आए। हाल ही में आए राहुल के नए इंटरव्यू से पता चला है कि वे कई सालों पहले एक कंपनी में नौकरी भी कर चुके हैं। हालांकि, यह बात राहुल गांधी के निजी वेबसाइट पर भी लिखी है, लेकिन शायद ही कम लोगों को नौकरी और सैलरी के बारे में पता होगा।

‘कर्लीटेल्स’ नामक यूट्यूब चैनल से बात करते हुए राहुल गांधी ने अपनी उस पहली नौकरी के बारे में बताया, जो उन्होंने लंदन में की थी। राहुल ने कहा, पहली नौकरी लंदन में की थी। इस कंपनी का नाम ‘मॉनिटर कंपनी था, जोकि एक स्ट्रैटेजिक कंसल्टिंग कंपनी थी।” उन्होंने आगे कहा, ”मुझे याद है पहली पे चेक जो मुझे मिली थी। उस समय के हिसाब से वह बहुत था।” जब राहुल गांधी से पूछा गया कि उन्होंने उस पैसे का क्या किया था, तो उन्होंने बताया कि वह किराए पर रहते थे, तो उसी सब में खर्च हो गया था। 

राहुल को कितनी मिली थी सैलरी?

राहुल ने सैलरी के बारे में बताया कि वह काफी बड़ा अमाउंट था। उन्होंने कहा, ”लगभग 2500 पाउंड या तीन हजार पाउंड मिले थे, जोकि काफी ज्यादा थे।” उस समय राहुल गांधी की उम्र लगभग 25 साल थी। जब राहुल से पूछा गया कि जब वे नाराज होते हैं, तो ऐसे तीन कौन से शब्द हैं, जिसे बोलते हैं। इस पर राहुल ने जवाब दिया कि मैं चुप हो जाता हूं। या फिर कहता हूं कि ‘डोन्ट डू दैट।” इस इंटरव्यू में राहुल की निजी जिंदगी से जुड़े कई पहलुओं के बारे में पूछा गया। 

बेड की साइड वाली ड्रॉर में क्या चीजें रखते हैं?

कांग्रेस सांसद से इंटरव्यू में आगे पूछा गया कि वे बेड साइड वाली ड्रॉर में क्या रखते हैं तो उन्होंने बताया कि उसमें वह पासपोर्ट, आईडी, रुद्राक्ष, भगवान शिव और बुद्ध की तस्वीर, वॉलेट और फोन रखते हैं। उन्होंने यह भी बताया कि वे ज्यादा सोशल मीडिया नहीं चलाते। राहुल गांधी से पूछा गया कि यदि वे देश के प्रधानमंत्री बनते हैं तो ऐसी तीन चीजें कौन सी हैं, जिसे वे करना चाहेंगे? इस पर कांग्रेस सांसद ने बताया कि मैं एजुकेशन सिस्टम को ट्रांसफोर्म करना चाहूंगा। उत्पादन कर रहे लोगों की मदद करना चाहूंगा, जिनके पास छोटे बिजनेस हैं और वे स्ट्रगल कर रहे हैं। भारत को इस समय जरूरत है कि छोटे बिजनेस को बड़े बिजनेस में ले जाने की। उन्होंने यह भी कहा कि वे उन लोगों को सुरक्षा देना चाहेंगे जो काफी खराब समय झेल रहे हों। जैसे- किसान, लेबर, बेरोजगार युवा आदि। 



Credit : https://livehindustan.com

Related Articles

Latest Articles

Top News