Less than nine percent women candidates in Gujarat assembly elections will benefit or harm bjp congress aap


Gujarat Meeting Election 2022: गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए पहले चरण की वोटिंग कल यानि 01 दिसंबर को होगी। निर्वाचन आयोग द्वारा शांतिपूर्ण मतदान की तैयारियां पूरी कर ली गईं हैं, तो भाजपा (BJP), कांग्रेस  (Congress), आम आदमी पार्टी-आप (AAP) प्रत्याशियों के धड़कने भी तेज हो गईं हैं।  

पहले चरण के लिए सौराष्ट्र, कच्छ और दक्षिण गुजरात क्षेत्रों की 89 विधानसभा सीटों के लिए मतदान होगा। भाजपा, कांग्रेस, आप, बसपा, निर्दलीय सहित क्षेत्रीय दलों के कुल 788 उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतरे हैं। सभी उम्मीदवारों में से 718 पुरुष उम्मीदवार हैं, जबकि 70 महिला प्रत्याशियों पर राजनैतिक दलों ने भरोसा जताया है।

यानि पहले चरण के चुनाव में 9 फीसदी से भी कम महिलाएं चुनाव लड़ेंगी। पुरुष, महिला उम्मीदवारों को छोड़ कल के चुनाव में थर्ड जेंडर की बात करें तो इनकी संख्या शून्य रहेगी। राजनीतिक जानकारों का कहना है कि महिला उम्मीदवारों की कम संख्या होने से कई पार्टियों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

राजनीतिक विशेषज्ञों की बात मानें तो कुछ विधानसभा सीटों में भाजपा, तो कुछ सीटों में कांग्रेस को फायदा पहुंच सकता है। पहले चरण में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने 9 महिलाएं और 80 पुरुष, कांग्रेस ने छह महिलाएं सहित कुल 89 सभी सीटों पर, आम आदमी पार्टी (आप) ने 88 में से छह महिलाएं, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने 57 से सात और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल- मुस्लिमीन (AIMIM) ने छह सीट पर उम्मीदवार उतारे हैं।

जबकि 339 निर्दलीय प्रत्याशी में 35 महिलाएं और 304 पुरुष शामिल हैं। सूत्रों की मानें तो निर्दलीय महिला प्रत्याशी भाजपा, और कांग्रेस के लिए परेशानी खड़ी कर सकती हैं। महिला मतदाताओं की संख्या अधिक होने के बावजूद भी महिलाओं पर ज्यादा भरोसा नहीं जताया गया है। 2022 के चुनाव में 182 विधानसभा सीटों पर 1621 दावेदारों में से 139 महिला उम्मीदवार हैं यानि नौ फीसदी से भी कम महिलाएं चुनाव लड़ेंगी भाजपा ने 12 तो कांग्रेस ने 14 महिलाओं को चुनावी मैदान में उतारा है।

राहत की बात यह है कि 2017 के चुनावों के मुकाबले 2022 में महिला उम्मदीवारों की संख्या में इजाफा हुआ है। मालूम हो कि ‘आप’ के गुजरात के चुनावी मैदान में उतरने से त्रिकोणीय मुकाबला होने की उम्मीद जताई जा रही है। 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा 99 सीट हासिल की थी, जबकि कांग्रेस को 77 सीट मिली थी।

भाजपा ने अधिकतर शहरी क्षेत्रों में जीत दर्ज की थी, जबकि कांग्रेस ने ग्रामीण क्षेत्रों में बेहतर प्रदर्शन किया था। ‘आप’ जिसने 2017 के चुनावों में 29 सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़ा किए थे, लेकिन तब वह अपना खाता तक नहीं खोल सकी थी। इस बार भाजपा को सत्ता से बेदखल करने की उम्मीद में ‘आप’ सभी सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए कमर कस रही है। 

महिला वोटरों की संख्या भी नहीं कम

निर्वाचन आयोग के अनुसार, पहले चरण के तहत आने वाले क्षेत्रों में कुल 2,39,76,670 मतदाता पंजीकृत हैं। इनमें 1,24,33,362 पुरुष, 1,15,42,811 महिला और तीसरे लिंग के 497 मतदाता शामिल हैं। गुजरात में कुल 4,91,35,400 पंजीकृत मतदाता हैं। पहले चरण के प्रचार के आखिरी दिन अमित शाह, नड्डा, आदित्यनाथ और गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने भाजपा के लिए रैलियों को संबोधित किया।

प्रधानमंत्री मोदी 27-28 नवंबर को दो दिन के गुजरात दौरे पर थे। उन्होंने नेत्रंग, खेड़ा, पालीताना, अंजार, जामनगर और राजकोट में छह रैलियों को संबोधित किया। पहले चरण के मतदान में 25,434 मतदान केंद्रों पर मतदान होगा जिनमें से शहरी क्षेत्रों में 9,018 और ग्रामीण क्षेत्रों में 16,416 मतदान केंद्र बनाए गए हैं।

पहले चरण के ये हैं प्रमुख उम्मीदवार

गुजरात के पूर्व मंत्री पुरुषोत्तम सोलंकी, छह बार से विधायक कुंवरजी बावलिया, ‘मोरबी के नायक’ कहे जाने वाले कांतिलाल अमृतिया, भारतीय क्रिकेटर रवींद्र जडेजा की पत्नी रिवाबा और आम आदमी पार्टी (आप) की गुजरात इकाई के अध्यक्ष गोपाल इटालिया पहले चरण में किस्मत आजमाने वाले प्रमुख उम्मीदवारों में शामिल हैं।



Credit : https://livehindustan.com

Related Articles

Latest Articles

Top News