Jyotiraditya Scindia on Tejasvi Surya IndiGo mistake He said sorry – India Hindi News – तेजस्वी सूर्या से गलती से खुला विमान का दरवाजा, सिंधिया बोले


ऐप पर पढ़ें

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बुधवार को कहा कि तेजस्वी सूर्या ने गलती से इंडिगो फ्लाइट का इमरजेंसी एग्जिट गेट खोल दिया था। तेजस्वी सूर्या का नाम लिए बिना मंत्री ने पुष्टि की कि जिस यात्री ने गलती से इमरजेंसी एग्जिट गेट खोला था, उसने खुद इस घटना की सूचना दी और तुरंत खेद व्यक्त किया। उन्होंने कहा, ‘विपक्ष जो कह रहा है, मुझे उसका जवाब नहीं देना है। तथ्यों पर गौर करना जरूरी है।’ सिंधिया ने कहा, ‘जब विमान जमीन पर था तब गलती से दरवाजा खुल गया और सभी जांचों के बाद उड़ान भरने की अनुमति दी गई।’

एक यात्री द्वारा इमरजेंसी गेट ‘गलती से’ खोलने का मामला मंगलवार को सामने आया। इंडिगो ने यात्री की पहचान नहीं उजागर की। लेकिन पता चला कि यात्री दक्षिण बेंगलुरु के सांसद तेजस्वी सूर्या थे। इंडिगो ने अपने बयान में कहा कि यह घटना 10 दिसंबर को चेन्नई से तिरुचिरापल्ली के बीच फ्लाइट संख्या 6E 7339 में हुई। जब यात्री ने गलती से आपातकालीन निकास खोला था तब विमान जमीन पर था और यात्री विमान में चढ़ रहे थे। एयरलाइन ने कहा कि “यात्री ने तुरंत अपने एक्शन के लिए माफी मांगी। एसओपी (मानक संचालन प्रक्रिया) के अनुसार, घटना को दर्ज किया गया था और विमान को अनिवार्य इंजीनियरिंग जांच से गुजरना पड़ा, जिससे उड़ान के प्रस्थान में देरी हुई।”

कांग्रेस ने निशाना साधा

चेन्नई हवाई अड्डे पर पिछले महीने इंडिगो के विमान पर सवार होने के बाद उसका आपात दरवाजा खोलने वाले व्यक्ति के बेंगलुरु दक्षिण से लोकसभा सदस्य तेजस्वी सूर्या के होने की खबरें आने के बाद मंगलवार को कांग्रेस ने उनपर निशाना साधा। कांग्रेस ने सवाल किया कि क्यों सरकार ने इस घटना को इतने लंबे समय तक छिपाए रखा। विपक्षी पार्टी के आरोप पर न तो सरकार ने और न ही सूर्या ने अबतक प्रतिक्रिया दी है। कर्नाटक कांग्रेस ने कहा कि तेजस्वी सूर्या इसके उदारण हैं कि अगर नादान बच्चे को छूट दे दी जाए तो क्या होगा। बच्चे के विमान का आपात दरवाजा खोलने के प्रयास की शरारत सामने आई है। यात्रियों की जिंदगी के साथ यह मजाक क्यों?

कांग्रेस पार्टी ने सिलसिलेवार ट्वीट कर मीडिया की खबरों को साझा करते हुए पूछा कि सरकार ने क्यों सूर्या द्वारा विमान सुरक्षा नियमों का उल्लंघन कर आपात द्वार खोलने की घटना को छिपाया। विपक्षी पार्टी ने सवाल किया, ‘‘सांसद की मंशा क्या थी? क्या उनकी योजना आपदा लाने की थी? क्यों उन्हें माफी मांगने के बाद पीछे की सीट पर जाने को कहा गया?’’ पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल किया कि अगर विमान के उड़ान भरने के बाद अगर यह ‘मजाक’ किया गया होता और तबाही मचती तो उसके लिए कौन जिम्मेदार होता।



Credit : https://livehindustan.com

Related Articles

Latest Articles

Top News