लड़कियों के चेहरे पर अधिक बाल आना नॉर्मल नहीं है, जानें इसके पीछे का कारण और उपाय


हाइलाइट्स

बालों को हटाने के लिए लेजर टेक्‍नीक का सहारा लिया जा सकता है
बालों की ग्रोथ हार्मोनल चेंजेज के कारण हो सकती है.
किसी भी ट्रीटमेंट का प्रयोग करने से पहले चिकित्‍सक से संपर्क करें.

Why Does facial hair are available in teenage- अपर लिप और चिन पर बाल आना समान्‍य नहीं होता, इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं. खासकर टीनएज में लड़कियों के चेहरे पर बाल उनकी खूबसूरती को बिगाड़ सकते हैं, साथ ही उनके आत्‍मविश्‍वास को भी कम कर सकते हैं. टीनएज में लड़कियां अपने रूप-रंग को लेकर काफी सतर्क रहती हैं और अक्‍सर चेहरे के बालों को लेकर चिंतित र‍हती हैं.

एक्‍सपर्ट्स का मानना है कि 5 से 10 प्रतिशत लड़कियां हिर्सुटिज्‍म का शिकार होती हैं जो बालों की ग्रोथ के लिए जिम्‍मेदार हो सकता है. ये समस्‍या अधिकतर पुरुषों को होती है जिसके कारण मोटे और अधिक बाल आते हैं. ऐसे ही कई कारण हैं जो बालों की ग्रोथ को बढ़ावा दे सकते हैं. चलिए जानते हैं इनके कारणों और उपचार के बारे में.

क्‍या है बालों की ग्रोथ के कारण
अत्‍यधिक बालों की ग्रोथ टीनेज के दौरान शुरू होती है. मॉम जंक्‍शन के अनुसार बालों का विकास हार्मोन, दवाओं के साइड इफेक्‍ट और आनुवांशिक संरचना के कारण हो सकता है.

हार्मोनल चेंज
लड़कियों और महिलाओं में अत्‍यधिक हेयर ग्रोथ के पीछे सबसे आम कारण एंड्रोजन का समान्‍य या असामान्‍य स्‍तर से अधिक बढ़ना हो सकता है. एड्रोजन वे हार्मोन हैं जो मानव शरीर में मर्दाना विशेषताओं को नियंत्रित करता है. लेकिन कुछ लड़कियों में एंड्रोजन का अधिक उत्‍पादन हो सकता है जिसके परिणामस्‍वरूप पुरुष की तरह बालों का विकास, भारी आवाज और वजन में उतार-चढ़ाव हो सकता है.

आनुवांशिक कारण
यदि किसी युवती को नियमित पीरियड्स हो रहे हैं और उसे कोई अन्‍य विकार नहीं है तो अधिक बाल होने का कारण संभवत: आनुवांशिक हो सकता है. यदि परिवार में दादी, नानी और मां के अनचाहे बाल हैं तो ये समस्‍या लड़कियों को भी हो सकती है.

साइड इफेक्‍ट
कुछ दवाएं जैसे कि स्‍टेरॉयड, ग्‍लूकोकार्टिकोइड्स और मिनोक्सिडिल एक साइड इफेक्‍ट के रूप में हिर्सुटिज्‍म या बालों के अत्‍यधिक विकास का कारण बन सकती हैं.

ये भी पढ़ें: ज्यादा पानी पीने से हुई थी ब्रूस ली की मौत ! जानें कैसे जहर बन सकता है पानी

चेहरे के बालों को कैसे करें कम
वैक्सिंग, थ्रेडिंग और शेविंग जैसी एपिलेशन तकनीक बालों को अस्‍थायी रूप से हटाने में सहायक हो सकती है. इसे सैलून में करवाया जा सकता है.

– इले‍क्‍ट्रोलिसिस एक और तरीका है जिससे बालों को हटाने में मदद मिल सकती है. इसके बार-बार प्रयोग करने से 15 से 50 प्रतिशत तक बाल स्‍थायी रूप से कम हो सकते हैं.

– बालों को हटाने का एक और इफेक्टिव तरीका है लेजर टेक्‍नीक. लेजर विधि बालों के रोम को नष्‍ट करने और बालों के विकास को कम करने में मदद करती है लेकिन स्‍थायी रूप से नहीं हटा सकती.

ये भी पढ़ें: सर्दियों में हल्दी वाला दूध सेहत के लिए फायदेमंद ! डाइटिशियन से जानें इसके फायदे और नुकसान

– जेल या लोशन से भी बालों को रिमूव किया जा सकता है. ये भी सुरक्षित और आसान तरीका है बालों को हटाने का.

टीनएज में बालों का विकास तेजी से होता है. लेकिन बालों को हटाने का कोई भी ट्रीटमेंट बिना डॉक्‍टरी सलाह के न करें.

Tags: Hair Magnificence suggestions, Well being, Life-style



Source link

Related Articles

Latest Articles

Top News