ये 4 संकेत बताते हैं कि आपके रिलेशनशिप में नहीं है समानता की जगह, टॉक्सिक होते हैं ऐसे रिश्‍ते


हाइलाइट्स

ऐसे रिलेशन में एक ही इंसान को हमेशा समझौता करना पड़ता है.
पार्टनर अपनी इच्‍छाओं को खुलकर बताने में घबराने लगता है.

Indicators Your Relationship is Based mostly on Inequality: एक रिश्ते में समानता का मतलब यह है कि दोनों ही इंसान एक-दूसरे की जरूरतों, इच्‍छाओं और भावनाओं का सम्‍मान करें. ना कि रिलेशनशिप में एक ही इंसान केवल अपनी इच्‍छाओं और हितों के बारे में सोचे और निर्णय ले. रिश्ते में ऐसी असमानताएं यह बतलाती है कि पार्टनर के बीच शक्ति का असंतुलन है और एक इंसान दूसरे पर हावी होने का प्रयास कर रहा है. ऐसे टॉक्सिक रिलेशन में एक इंसान दूसरे पर शक्ति और नियंत्रण बनाए रखने का हर वक्‍त प्रयास करता है. जिस वजह से रिलेशनशिप में डर, अविश्‍वास जैसी भावनाएं पैदा होने लगती है, जो रिलेशनशिप को टॉक्सिक बना देता है. आइए जानते हैं कि रिलेशनशिप मे असमानता की पहचान क्‍या है.

रिलेशनशिप में असमानता के संकेत

निर्णय लेने का अधिकार
रिलेशनशिप में जब बराबरी या समानता का अधिकार नहीं होता है तो इसकी पहली पहचान इस बात से की जा सकती है कि हर तरह का निर्णय एक ही इंसान लेता है, जबकि हेल्‍दी रिलेशनशिप में पार्टनर आपसी बातचीत के बाद निर्णय लेना पसंद करते हैं.

इसे भी पढ़ें : रिलेशनशिप में फॉलो करें ये 5 गोल्‍डन रूल्‍स, पार्टनर कभी नहीं छिपाएगा कोई भी बात

 

समझौता नहीं करना
रिेलेशनशिप में दो लोगों के बीच मतभेद होना नॉर्मल बात है. ऐसे में पार्टनर आपस में बातचीत कर बीच का मसला निकाल लेते हैं या पार्टनर के असहमत होने पर कोई कडा़ निर्णय नहीं लेते हैं. जबकि रिलशनशिप में असमानता की भावना हो या पार्टनर किसी बात पर असहमत हो तो वह साथी के साथ किसी तरह के समझौता से इंकार कर देता है और अपनी मर्जी का ही चलाता है.

हर बार एक ही इंसान को भुगतना
यह स्‍वाभाविक है कि रिलेशनशिप में एक ही इंसान अपने पार्टनर को मन की करने की इजाजत देता जाए. लेकिन अगर हर बार ऐसा हो और उसकी भावनाओं की कद्र ना की जाए या उसे यह महसूस कराया जाए कि उसकी इच्‍छा से अधिक मेरे मन की बात को करना जरूरी है तो ये असमानता को दर्शाता है.

ये भी पढ़ें: कहीं आप इमोशनल एडिक्शन का तो नहीं हो रहे शिकार? जानें इससे उबरने के तरीके

चुप करा देना
हेल्‍दी रिलेशनशिप में दोनों ही इंसान को अधिकार है कि वे अपनी भावनाओं, इच्‍छाओं को खुलकर बोलें. ऐसे में झगड़ा करना भी नॉर्मल बात है. लेकिन अगर इंसान अपने पार्टनर को चुप रहने या अपनी बात को ही अंतिम निर्णय मानने के लिए दबाव डालता है तो ये रिलेशनशिप में असमानता का दिखाता है. .(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Life-style, Relationship



Source link

Related Articles

Latest Articles

Top News