डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड और UPI के बाद अब एम्स में शुरू होगा ‘AIIMS Smart Card’ सुविधा, जानें इसके फायदे


नई दिल्ली. अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS), दिल्ली में अब ‘एम्स स्मार्ट कार्ड’ (AIIMS Good Card) की सुविधा शुरू होने जा रही है. इस सुविधा के शुरू हो जाने के बाद अब एम्स में मरीजों (Sufferers) को इलाज के साथ-साथ नाश्ता-पानी करने में भी काफी आराम मिलेगा. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) के सहयोग से रोगियों और उनके परिचारकों के लिए एम्स प्रशासन ने ‘एम्स स्मार्ट कार्ड’ सुविधा शुरू करने का निर्णय लिया है. इसे 1 अप्रैल 2023 से ई-अस्पताल की बिलिंग से जोड़ दिया जाएगा. इस सुविधा के शुरू हो जाने के बाद अगले कुछ महीनों में इस कार्ड के जरिए रोगी या उनके परिजन एम्स के भीतर सभी स्थानों पर ‘स्मार्ट कार्ड’ के जरिए भी भुगतान कर सकेंगे.

एम्स के निदेशक डॉ एम श्रीनिवास के मुताबिक, इस सेवा के शुरू हो जाने के बाद यह कार्ड ओपीडी, अस्पताल और एम्स परिसर में स्थित कैफेटेरिया सहित अन्य जगहों पर 24 घंटे काम करेगा. अब एम्स में डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड और यूपीआई के बाद एम्स स्मार्ट कार्ड से भी लोगों को भुगतान होगा. इस फैसले के बाद एम्स दिल्ली में स्मार्ट कार्ड अब खुल्ले पैसों की समस्या खत्म होने जा रही है. अब मरीजों को खुल्ले यह सुविधा अगले साल 1 अप्रैल शुरू हो जाएगी.

  • MCD चुनाव में BJP ने उतारी स्टार प्रचारकों की फौज, अमित शाह समेत ये 40 दिग्गज संभालेंगे कमान; देखें लिस्ट

    MCD चुनाव में BJP ने उतारी स्टार प्रचारकों की फौज, अमित शाह समेत ये 40 दिग्गज संभालेंगे कमान; देखें लिस्ट

  • Nisha Rawal B'day Spl: निशा रावल को पहली नजर में दिल दे बैठे थे करण मेहरा, अब राहें हैं जुदा

    Nisha Rawal B’day Spl: निशा रावल को पहली नजर में दिल दे बैठे थे करण मेहरा, अब राहें हैं जुदा

  • Explainer : किसी हत्या के मामले में क्या होती है पुलिस प्रक्रिया, कैसे कोर्ट में होती है सजा

    Explainer : किसी हत्या के मामले में क्या होती है पुलिस प्रक्रिया, कैसे कोर्ट में होती है सजा

  • Agniveer vayu Recruitment 2022: वायुसेना में इन पदों पर आवेदन करने के बचे हैं चंद दिन, 12वीं पास करें अप्लाई, होगी अच्छी सैलरी

    Agniveer vayu Recruitment 2022: वायुसेना में इन पदों पर आवेदन करने के बचे हैं चंद दिन, 12वीं पास करें अप्लाई, होगी अच्छी सैलरी

  • Delhi Winter: ...तो इस बार दिल्ली में पड़ेगी हाड़ कंपाने वाली सर्दी! आज के मौसम के तेवर से तो यही लगता है

    Delhi Winter: …तो इस बार दिल्ली में पड़ेगी हाड़ कंपाने वाली सर्दी! आज के मौसम के तेवर से तो यही लगता है

  • BJP ने जारी किया AAP नेता मुकेश गोयल का स्टिंग वीडियो, MCD टिकट के बदले मांग रहे 'एक खोखा'

    BJP ने जारी किया AAP नेता मुकेश गोयल का स्टिंग वीडियो, MCD टिकट के बदले मांग रहे ‘एक खोखा’

  • उत्तराखंड से दिल्ली भेजे जाएंगे चौड़ी पत्ती वाले 5000 पौधे, हवा में सुधरेगा ऑक्सीजन लेवल

    उत्तराखंड से दिल्ली भेजे जाएंगे चौड़ी पत्ती वाले 5000 पौधे, हवा में सुधरेगा ऑक्सीजन लेवल

  • 'गांजे का आदी हूं...नशे में की श्रद्धा की हत्या...देहरादून में फेंके शव के कुछ टुकड़े'...पूछताछ में बोला आफताब

    ‘गांजे का आदी हूं…नशे में की श्रद्धा की हत्या…देहरादून में फेंके शव के कुछ टुकड़े’…पूछताछ में बोला आफताब

  • श्रद्धा मर्डर केस में हुए कई बड़े खुलासे, आफताब का झूठ भी बेनकाब; सामने आया 'कातिल' की जिंदगी का एक बड़ा राज

    श्रद्धा मर्डर केस में हुए कई बड़े खुलासे, आफताब का झूठ भी बेनकाब; सामने आया ‘कातिल’ की जिंदगी का एक बड़ा राज

  • इस बार रिकॉर्ड तोड़ रहा चिकनगुनिया, डरा रहे एनवीबीडीसीपी के ये आंकड़े

    इस बार रिकॉर्ड तोड़ रहा चिकनगुनिया, डरा रहे एनवीबीडीसीपी के ये आंकड़े

  • अमिताभ बच्चन ने उन दिनों को किया याद, जब वे तंगहाली में गोलगप्पे खाकर करते थे गुजारा

    अमिताभ बच्चन ने उन दिनों को किया याद, जब वे तंगहाली में गोलगप्पे खाकर करते थे गुजारा

राज्य चुनें
दिल्ली-एनसीआर
यह कार्ड ओपीडी, अस्पताल और एम्स परिसर में स्थित कैफेटेरिया सहित अन्य जगहों पर 24 घंटे काम करेगा- निदेशक (फोटो-ANI)

‘एम्स स्मार्ट कार्ड’ के फायदे
गौरतलब है कि एम्स के नए निदेशक के आने के बाद कई तरह मरीजों को लेकर कई तरह की सेवाएं शुरू की गई हैं. पहली बार एम्स में रोगियों को प्राथमिक उपचार दिए जाने के बाद अन्य अस्पतालों में भेजने के लिए एक तंत्र बनाने पर काम शुरू हो गया है. इसके पीछे की यह सोच है कि एम्ल अपने संसाधनों और विशेषज्ञता को जटिल मामलों पर केंद्रित कर सके.

निदेशक का क्या कहना है
संस्थान के निदेशक डॉ एम श्रीनिवास के मुताबिक, ‘एम्स में हर दिन लगभग 8,000 से 15,000 मरीज बाह्य रोगी विभाग (ओपीडी) में आते हैं और ‘भीड़ को प्रबंधित करना हमारे लिए बहुत मुश्किल है.’ दिल्ली में दिल्ली सरकार और केंद्र सरकार के सभी अस्पतालों के चिकित्सा अधीक्षकों और प्रशासकों की एक बैठक पिछले महीने एम्स में हुई थी. हम योजना बना रहे हैं कि अगर कोई मरीज इस अस्पताल में आता है तो हम उसे आवश्यक प्राथमिक उपचार दे सकते हैं तथा अगर यहां बिस्तर उपलब्ध नहीं है तो शायद उसे एक माध्यमिक देखभाल अस्पताल में भेज दें, जहां बिस्तर उपलब्ध है.’

Delhi AIIMS, Organ donation of 8 year old brain dead girl, organ donation, organ donation case in AIIMS, New Delhi News, New Delhi News Today, New Delhi Hindi News, Health Department, What is brain dead? 8 साल की ‘ब्रेन डेड’ बच्ची बचा गई दो बच्चों की जिंदगी, परिवार ने दी अंगदान की सहमति, 24 घंटे में दूसरा केस,
एम्स में हर दिन लगभग 8,000 से 15,000 मरीज बाह्य रोगी विभाग (ओपीडी) में आते हैं. (फाइल फोटो)

ये भी पढ़ें: संसद के शीतकालीन सत्र में पेश होगा बिजली संशोधन विधेयक- 2022! क्यों शुरू हो गया है अब इस बिल का विरोध?

डॉ श्रीनिवास ने कहा, ‘दिल्ली के माध्यमिक देखभाल अस्पताल हैं जो विशेष विशेषज्ञता की आवश्यकता वाले गंभीर और जटिल मामलों को एम्स के लिए भेज सकते हैं. इसका उद्देश्य संसाधनों, बिस्तरों और विशेषज्ञता का अधिकतम उपयोग सुनिश्चित करने के लिए इस तरह से साझा करना है. इसके अलावा, यदि कोई मरीज बिहार से है तो वह एम्स पटना, आईजीआईएमएस पटना या बिहार के किसी अन्य मेडिकल कॉलेज और डॉक्टरों के पास जा सकता है. रोगी की जांच करने के बाद, यदि आवश्यक हो तो उसे एम्स नई दिल्ली में रेफर कर सकते हैं और हम प्राथमिकता के आधार पर उन्हें भर्ती करते हैं.’

Tags: Aiims delhi, AIIMS director, Bank card, Debit card, Delhi AIIMS



Source link

Related Articles

Latest Articles

Top News