डिजीज X क्या है? पैथोजन्स की लिस्ट तैयार करने के लिए WHO ने बनाई 300 वैज्ञानिकों की टीम


WHO is Making ready record of Pathogens: कोरोना महामारी को करीब तीन साल हो गए हैं. अभी भी इसका संक्रमण पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है. कोरोना ने पूरी दुनिया को प्रभावित किया है और दुनिया भर के विकसित देश भी इसके प्रकोप से बच नहीं पाए हैं. इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक बड़ा ऐलान किया है. डब्लूयएचओ ने कहा कि वह ऐसे वायरस, सूक्ष्म जीवों और बैक्टीरिया की पहचान करने की कोशिश में लगा हुआ है जो भविष्य में कोरोना जैसी महामारी का कारण बन सकते हैं.

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि वह ऐसे पैथाजन्स की एक लिस्ट भी तैयार करेगा जिससे महामारी का खतरा पैदा हो सकता है. ओनली माय हेल्थ की खबर के अनुसार इस काम के लिए डब्ल्यूएचओ ने एक बड़े पैमानें में तैयारी शुरू की है और इसके लिए 300 वैज्ञानिकों की एक टीम भी तैयार करने की योजना बनाई है. वैज्ञानिकों की ये टीम लिस्टेड बैक्टीरिया और वायरस के टीके और इलाज को तलाशेंगीं.

जनहानि का लगाया जाएगा अंदाजा
डब्ल्यूएचओ के अनुसार एक ऐसी रणनीति बनाई जा रही है जिससे भविष्य में आने वाले खतरों से आसानी से निपटा जा सके. विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार ऐसे वायरस या फिर बैक्टीरिया को तलाशने का यही मकसद है कि यह पता चल सके कि अगर कोई महामारी फैलती है तो इससे कितनी जनहानी हो सकती है और उससे जल्द से जल्द निपटा कैसे जा सके.

Post Delivery Workout: पोस्ट डिलीवरी वर्कआउट में न करें ये गड़बड़ी, जानें रूटीन से जुड़ी A टू Z इंफोर्मेशन

गौरतलब है कि पिछले दो से तीन वर्षों में कोरोना से भारी जनहानी हुई है लेकिन सिर्फ कोरोना वायरस ही नहीं बल्कि जीका, मंकीपॉक्स और निपाह जैसे वायरस ने भी जमकर तबाही मचाई है. एजेंसी का मानना है कि ऐसे और भी वायरस हो सकते हैं जो बहुत ज्यादा जनहानी पहुंचा सकते हैं इसलिए उनको तलाशने का काम शुरू किया जा रहा है.

लिस्ट में ये पैथोजन्स को किया गया शामिल
डब्ल्यूएचओ ने अपनी लिस्ट में जो वायरस को अभी शामिल किया है उसमें कोविड-19, इबोला, जीका, लस्सा फीवर वायरस, मारबर्ग वायरस और डिजीज X, मिडिल ईस्ट रिस्पायरेटरी सिंड्रोम और सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम डिजीज को शामिल किया गया है. बता दें कि डब्ल्यूएचओ की तरफ से रोगजनकों की पहली सूची 2017 में जारी की गई थी.

Uric Acid Causes: यूरिक एसिड फैंकोनी सिंड्रोम और कैंसर ट्रीटमेंट से भी हो सकता है ट्रिगर, जानें बड़ी बातें

डिजीज X पर काम करेगी टीम
विश्व स्वास्थ्य संगठन के वैज्ञानिकों ने कहा कि हमारी टीम डिजीज X पर काम करेगी. डिजीज X एक अज्ञात रोगजनक है. यह एक खतरनाक रोगजनक है जो भविष्य में महामारी का कारण बन सकता है. एक्सपर्ट की मानें तो डिजीज X वायरस कोरोना वायरस से ज्यादा खतरनाक हो सकात है. उन्होंने कहा कि अगर यह एक बार फैल गया तो इसे रोकना लगभग नामुमकिन होगा.

क्या होते हैं पैथोजन्स
पैथोजन्स का मतलब होता है रोगजनक बीमारी को जन्म देने वाला. इसमें कई तरह के विषाणु, परजीवी, कवक और जीवाणु होते हैं. इनकी वजह से कई तरह की गंभीर बीमारियां उत्पन्न होती हैं. ये जीव, पेड़ पौधे के साथ साथ सूक्ष्म जीवों को भारी नुकसान पहुंचाते हैं. मानव जाति में इन जीवों की वजह से होने वाले रोगों को रोगजनक कहा जाता है.

Tags: Corona, Way of life, Pandemic



Source link

Related Articles

Latest Articles

Top News