इन 5 हर्बल टी में छुपा है ब्लोटिंग की समस्या को दूर करने का राज, आप भी करें सेवन


हाइलाइट्स

ब्लोटिंग के कारण पेट में सूजन और दर्द का सामना करना पड़ सकता है.
ब्लोटिंग की समस्या से छुटकारा पाने का नेचुरल उपाय है हर्बल टी.
अदरक एक औषधि है, जिसका इस्तेमाल बेहतर डाइजेशन में सहायक है.

Natural Tea for Bloating Downside : खाने-पीने की कुछ गलतियों के कारण अक्सर पेट में असहज जकड़न और सूजन महसूस होने लगती है. ये समस्या ब्लोटिंग के नाम से जानी जाती है. ब्लोटिंग एक आम समस्या है, जिसे आसानी से ठीक किया जा सकता है. आमतौर पर ब्लोटिंग और सूजन
गैस, गट बैक्टीरिया, अल्सर, कब्ज और इंफेक्शन के कारण हो सकती है. ब्लोटिंग की समस्या से निजात पाने के लिए काफी लंबे समय से हर्बल टी का इस्तेमाल किया जा रहा है. ऐसे में अगर आप भी ब्लोटिंग की समस्या का सामना कर रहे हैं, तो हम आपके लिए लेकर आए हैं कुछ शानदार विकल्प जिनका सेवन करने से आप सूजन और दर्द से राहत पा सकते हैं.

ब्लोटिंग की समस्या को दूर करेंगी ये 5 हर्बल टी

पेपरमिंट टी 
हेल्थलाइन डॉट कॉम के मुताबिक, फ्रेश पेपरमिंट यानी पुदीना ठंडा होता है, जो कई पाचन संबंधी समस्याओं में लाभकारी साबित हो सकता है. पुदीना स्वाद में फ्लेवरफुल होने के साथ-साथ ब्लोटिंग
से राहत दिलाने में सहायक है. पेपरमिंट में फ्लेवोनोइड्स मौजूद होता है, जो ब्लोटिंग, सूजन और दर्द में काफी फायदेमंद है.

पेपरमिंट टी बनाने के विधि – एक कप पानी में एक चम्मच सुखा पुदीना और टी बैग डालकर अच्छे से पकाएं और छानकर सेवन करें. इसके अलावा आप मार्केट से पेपरमिंट टी बैग भी खरीद सकते हैं.

अदरक की चाय
अदरक एक औषधि है, जिसका इस्तेमाल बेहतर डाइजेशन के लिए पुराने समय से किया जा रहा है. अदरक में मौजूद जिंजरोल पेट से संबंधित सभी परेशानियों, सूजन और गैस से राहत दिलाने में सहायक है. ब्लोटिंग की समस्या में अदरक वाली चाय काफी फायदेमंद होती है.

जिंजर टी बनाने की विधि – एक कप पानी में टी बैग के साथ जिंजर पाउडर या ताजे अदरक के टुकड़े डालकर अच्छे से उबाल लें. जिंजर टी काफी मसालेदार होती है. इसका सेवन शहद के साथ भी कर सकते हैं.

सौंफ वाली चाय
फेनेल यानी सौंफ का इस्तेमाल लंबे समय से डाइजेस्टिव डिसऑर्डर्स को ठीक करने के लिए किया जाता रहा है. फेनेल टी ब्लोटिंग, पेट दर्द, सूजन, गैस और कब्ज से राहत पाने का कारगर उपाय है.

फेनेल टी बनाने की विधि – एक कप गर्म पानी में टी बैग के साथ दो चम्मच सौंफ डालकर अच्छे से उबाल लें और छानकर सेवन करें.

कैमोमाइल टी
कैमोमाइल के फूल कई औषधीय गुणों से भरपूर होते हैं. कैमोमाइल के फूलों में फ्लेवोनॉएड्स के साथ कई फायदेमंद कंपोनेंट्स होते हैं, जिनका सेवन करने से ब्लोटिंग, अपच, उल्टी-दस्त और अल्सर जैसी समस्याओं से राहत मिलती है.

इसे भी पढ़ें : आपका बच्चा हो सकता है डिप्रेशन का शिकार! इन लक्षणों को न करें नजरअंदाज

इसे भी पढ़ें : कंप्यूटर या मोबाइल देखने से आंखों में होता है दर्द, तो अपनाएं यह 4 घरेलू उपचार

कैमोमाइल टी बनाने की विधि – एक कप पानी में टी बैग और सूखे हुए कैमोमाइल को एक साथ उबालकर सेवन करें.

वर्मवुड टी
वर्मवुड एक हरी पत्तेदार जड़ी बूटी है, जिसका इस्तेमाल पाचन संबंधित समस्याओं से राहत पाने के लिए किया जाता है. वर्मवुड टी का स्वाद कड़वा होता है, इसलिए इसका सेवन नींबू और शहद के साथ कर सकते हैं. वर्मवुड टी ब्लोटिंग और सूजन के लिए एक नेचुरल उपाय है.

वर्मवुड टी बनाने की विधि – एक कप पानी में लगभग 2 छोटे चम्मच सूखे हर्ब को भिगोकर अच्छे से उबाल लें और छानकर सेवन करें.

Tags: Well being, Dwelling Cures, Life-style



Source link

Related Articles

Latest Articles

Top News