आपके मोटापे की कहीं थाइराइड तो वजह नहीं? जानिए कैसे करें इसे कंट्रोल


हाइलाइट्स

थायराइड की समस्‍या अधिकतर महिलाओं को होती है.
हायपरथायरायडिज्‍म होने पर तेजी से बढ़ता है वजन.
हायपरथायरायडिज्‍म में वजन को कम करने में आती है दिक्‍कत.

Weight problems Due To Thyroid Drawback- किसी भी बीमारी के दौरान वजन का कम होना सामान्‍य है लेकिन किसी बीमारी की वजह से वजन का बढ़ना किसी भी व्‍यक्ति को निराश कर सकता है. वजन बढ़ने से न सिर्फ पर्सनेलिटी व लुक खराब होता है बल्कि डायबिटीज,  हाई बीपी, अर्थराइटिस और हार्ट प्रॉब्‍लम को भी बढ़ावा मिल सकता है. वजन का बढ़ना हाइपरथायराइडिज्‍म बीमारी का एक लक्षण है. थाइराइड शरीर में धीरे-धीरे बढ़ता है जिस वजह से इसके लक्षणों को पहचानने में काफी परेशानी आती है. थाइराइड इन दिनों एक आम समस्‍या के रूप में उभर रही है जिसका शिकार अधिकतर महिलाएं हो रही हैं. भारत में लगभग 45 मिलियन लोग इस समस्‍या से जूझ रहे हैं. चलिए जानते हैं थाइराइड किस प्रकार वजन को प्रभावित करता है. 

ये भी पढ़ें: Learn how to Make Makki Ki Roti: सरसों की साग के साथ मक्के की रोटी का लेना है मज़ा तो इस आसान तरीके से बनाएं

हेल्‍थलाइन के अनुसार थायराइड हार्मोन शरीर के मेटाबॉलिज्‍म को नियंत्रित करने में मदद करता है. थायराइड हार्मोन बेसल मेटाबॉलिक रेट को भी प्रभावित करता है. ये वह एनर्जी है जिसका उपयोग शरीर आराम के दौरान कार्य करते रहने के लिए करता है. मेटाबॉलिज्‍म के स्‍लो होने की वजह से वजन को कम करने में दिक्‍कत आती है. मेटाबॉलिज्‍म सिर्फ थायराइड हार्मोन से ही प्रभावित नहीं होता बल्कि डाइट, फिजिकल एक्टिविटी और अन्‍य कारक अहम भूमिका निभाते हैं. 

वजन बढ़ने का कारण
हाइपरथायरायडिज्‍म वाले कुछ लोग वजन घटने की बजाय बजन बढ़ने का अनुभव कर सकते हैं. ऐसा क्‍यों होता है जानते हैं इसके कारण.

भूख में वृद्धि
हाइपरथायरायडिज्‍म आमतौर पर व्‍यक्ति की भूख बढ़ाता है. यदि शरीर जरूरत से ज्‍यादा कैलोरी ले रहा और एनर्जी भी खर्च कर रहा है तब भी वजन बढ़ सकता है. वजन को नियंत्रित रखने के लिए हेल्‍दी डाइट और एक्‍सरसाइज करना बेहद जरूरी है. 

हायपरथायरायडिज्‍म ट्रीटमेंट
हायपरथायरायडिज्‍म शरीर के लिए एक असामान्‍य स्थिति है. ट्रीटमेंट शरीर को उसकी सामान्‍य स्थिति में वापस लाता है. ट्रीटमेंट करने से शरीर का वजन तो कम होने लगता है लेकिन ट्रीटमेंट के बार शरीर का वजन दोबारा से बढ़ सकता है. शरीर पहले की तुलना में कम थायराइड हार्मोन बनाने लगता है. 

थायराइडाइटिस
थायराइडाइटिस थायराइड की सूजन है. ये समस्‍या थायराइड हार्मोन के कम या बहुत अधिक बनने के कारण उत्‍पन्‍न होती है. वजन के बढ़ने के लिए थायराइडाइटिस भी जिम्‍मेदार होता है. ये शरीर में सूजन पैदा करता है, जो लंबे समय तक जारी रहती है. इस स्थिति में चक्‍कर, ड्राई स्किन, कब्‍ज और डिप्रेशन का सामना करना पड़ सकता है. 

ये भी पढ़ें: स्वाद का सफ़रनामा: शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है कीवी, इस फल के नाम की है रोचक दास्तान

कैसे कंट्रोल करें थायराइड को
हेल्‍दी डाइट
प्‍लांट बेस्‍ड फूड
कम कैलोरी इंटेक
एक्‍सरसाइज
मेडिटेशन
फिजिकल एक्टिविटी
मोटापा कई कारणों की वजह से हो सकता है. खान-पान के साथ यदि लाइफस्‍टाइल में बदलाव किया जाए तो इस समस्‍या पर काबू पाया जा सकता है.

Tags: Well being, Life-style, Weight problems



Source link

Related Articles

Latest Articles

Top News