25.3 C
Varanasi
Saturday, September 18, 2021

Buy now

spot_img

South China Sea पर अवैध कब्‍जा कर UK को धमकी दे रहा चीन, कही युद्ध की बात | China is threatening the UK carrier strike group on passing South China Sea gave statements about Navy war preparations

Facebook
Twitter
Pinterest
WhatsApp

[ad_1]

बीजिंग: चीन (China) ने हाल ही में ब्रिटेन के कैरियर स्ट्राइक ग्रुप (UK Carrier Strike Group) को चेतावनी दी है कि वह दक्षिण चीन सागर में प्रवेश करने के बाद कोई ‘अनुचित काम’ न करे. दरअसल, चीन व्‍यावहारिक तौर पर 13 लाख वर्ग मील में फैले पूरे दक्षिण चीन सागर पर अपना दावा ठोकता है और अब उसने इस इलाके में बढ़ रहे तनाव के लिए विदेशी युद्धपोतों को दोषी ठहराया है. उधर चीनी कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के मुखपत्र माने जाने वाले ग्लोबल टाइम्स ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि पीपुल्स लिबरेशन आर्मी नेवी युद्ध की तैयारी की स्थिति में है. 

कैरियर स्ट्राइक ग्रुप पर नजर रख रहा है चीन 

ब्रिटेन के कैरियर स्ट्राइक ग्रुप की प्रगति पर चीन बारीकी से नजर रख रहा है. फिलहाल यह दक्षिण चीन सागर से होकर जापान जा रहा है. साथ ही इसी समय ब्रिटेन की रॉयल नेवी सिंगापुर की नेवी के साथ अभ्यास कर रही है. इसके अलावा ब्रिटेन के रक्षा सचिव बेन वालेस ने दक्षिण चीन सागर के जरिए ‘फ्रीडम ऑफ नेविगेशन’ (Freedom of Navigation) अभ्यास करने का इरादा भी जता दिया है. फ्रीडम ऑफ नेविगेशन गतिविधि नियमित तौर पर संयुक्त राज्य अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम और ऑस्ट्रेलिया द्वारा आयोजित की जाती है. अमेरिका इसे तटीय राज्यों द्वारा समुद्र तक पहुंच को अन्यायपूर्ण तरीके से सीमित करने के प्रयास के खिलाफ एक गतिविधि के तौर पर संचालित करता है. 

यह भी देखें: किसी ने ध्यान नहीं दिया, PM Modi ने China के साथ कर दिया बड़ा ‘खेल’!

US-UK दे रहे चीन की संप्रभुता को चुनौती 

हाल ही में अमेरिका और रॉयल नेवी के ही युद्धपोतों ने जानबूझकर दक्षिण चीन सागर में चीन की संप्रभुता के दावों को चुनौती दी है. इसे लेकर रॉयल यूनाइटेड सर्विसेज इंस्टीट्यूट (RUSI) के एक वरिष्ठ रिसर्च फेलो वीरले नूवेन्स कहते हैं, ‘चीन दक्षिण चीन सागर में एक प्रमुख अमेरिकी सहयोगी के साथ सीधे टकराव नहीं करना चाहता है लेकिन निश्‍चित तौर पर वह जल्‍द ही अपने इरादे स्‍पष्‍ट कर देगा.’

युद्धपोत के साथ है बड़ा काफिला

कैरियर स्‍ट्राइक ग्रुप के HMS क्वीन एलिजाबेथ नाम के इस बड़े युद्धपोत के साथ रॉयल नेवी के 6 जहाज चल रहे हैं. इस युद्धपोत में 8 F-35B लाइटनिंग II फास्ट जेट, समुद्री हमले में उपयोग होने वाले 4 वाइल्डकैट हेलीकॉप्टर, 7 मर्लिन Mk2 एंटी-सबमरीन और हेलीकॉप्टर हैं. साथ ही इसके डेक पर 3 मर्लिन एमके 4 कमांडो हेलीकॉप्टर हैं.

बता दें कि दक्षिण चीन सागर चीन, ताइवान, फिलीपींस, वियतनाम, मलेशिया और ब्रुनेई जैसे 6 देशों से घिरा एक रणनीतिक जलमार्ग है. चीन इस पर घुसपैठ करके विदेशी जहाजों को डुबो रहा है. साथ ही नए जिले और कृत्रिम द्वीप बनाकर उन्‍हें चीनी नाम दे रहा है. इनमें से कुछ द्वीपों को लेकर जबरदस्‍त विवाद भी चल रहा है. चूंकि दुनिया का एक तिहाई शिपिंग ट्रैफिक इस दक्षिण चान सागर से होकर गुजरता है, लिहाजा अमेरिका समेत कई देश बीजिंग द्वारा इस पूरे समुद्र पर किए जा रहे संप्रभुता के अवैध दावे से खासे नाराज हैं. 

[ad_2]

Credit : http://zeenews.india.com

Facebook
Twitter
Pinterest
WhatsApp

Related Articles

Stay Connected

3,500FansLike
3,000FollowersFollow
2,500SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles